Saturday, May 9, 2009

कविता

 ब्लॉगर्स को मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

                    मां
     
                  मां
               मां  होती है.
    
               मां 
             धरती होती है.
       
               मां
             आकाश होती है.

               मां 
        जाडे की गुनगुनी धूप होती है.

               मां
        जेठ की दोपहर की छांव होती है.

               मां 
         सावन का झूला होती है.

                मां
            वसन्ती हवा होती है.
 
                 मां
           हर रिश्ते का आधार होती है.

                 मां
             घर की नींव होती  है.

                 मां
             शीतल नदी होती है.

                 मां 
           साहिल और समुन्दर होती है.

                 मां
          मेरे हर सफर की शुरूआत होती है.

2 comments:

  1. मां
    साहिल और समुन्दर होती है.


    मां
    मेरे हर सफर की शुरूआत होती है.
    maa ke liye jitna kahe kam hai .umda .

    ReplyDelete
  2. मां
    मां होती है.

    मां
    धरती होती है.

    ReplyDelete