Wednesday, March 25, 2009

नव संवत्सर आपको मुबारक!

नव संवत्सर आपको मुबारक!
नव वर्ष मुबारक!
चटकती कलियों को
किलकती गलियों को
नव वर्ष मुबारक!
............................
नील गगन के बादल को
ममता के आंचल को
नव वर्ष मुबारक!
..............................
पूरब की पुरवाई को
सागर की गहराई को
नव वर्ष मुबारक!
............................
अनेकता के साथों को
एकता के हाथों को
नव वर्ष मुबारक!
...........................
पतझर की बहार को
माटी के कुम्हार को
नव वर्ष मुबारक!
..........................
बचपन की बातों को
बिछुडे हुए नातों को
नव वर्ष मुबारक!
.........................
झुकती हुई आंखों को
सूखी हुई शाखों को
नव वर्ष मुबारक!
............................
पूर्वजों की थाती को
शहीदों की छाती को
नव वर्ष मुबारक!
...........................
छप्पर की बाती को
चींटी-बाराती को
नव वर्ष मुबारक!
............................
उठती डोली को
पपिहा की बोली को
नव वर्ष मुबारक!
...........................
शहर की अंगडाई को
गांव की बिवाई को
नव वर्ष मुबारक!
.............................
बुर्ज़ुगों के सानिध्य को
भारत के भविष्य को
नव वर्ष मुबारक!
.............................
अलाव की रातों को
वसंत की यादों को
नव वर्ष मुबारक!
............................
गुजरती राहों को
बिछुडती बाहों को
नव वर्ष मुबारक!
...........................
गांव की पगडण्डी को
सब्जी की मंडी को
नव वर्ष मुबारक!
............................
खेतों की फसलों को
चिडिया के घोसलों को
नव वर्ष मुबारक!
............................
रोते नादानों को
उडते अरमानों को
नव वर्ष मुबारक!
............................
निकलते दिनकर को
स्थिर समंदर को
नव वर्ष मुबारक!
..............................
कोयले की खानों को
मुर्गे की बांगो को
नव वर्ष मुबारक!
..............................
नदिया की कल कल को
गोरी की छम छम को
नव वर्ष मुबारक!
................ ..............
सरहद के जवानों को
खेत-खलिहानों को
नव वर्ष मुबारक!
...............................
जीवन दाता को
जग के विधाता को
नव वर्ष मुबारक!

No comments:

Post a Comment